भारत का संविधानभारत का सर्वोच्च विधान है,आइये जानते है यह कब और कैसे भारत मे लागू हुआ


 संविधान का निर्माण

Samvidhaan



संविधान की रूप रेखा :-

  • -  भारतीय संविधान का निर्माण करने वाली संविधान सभा का गठन जुलाई,1946 मे किया गया ।
  • - संविधान- सभा जिसका चुनाव प्रादेशिक विधानसभाओं ( केवल निम्न सदन ) के सदस्यों द्वारा परोक्ष रूप से किया गया था, की पहली बैठक 9 दिसम्बर 1946 को सम्पन्न हुई ।
  • - मुस्लिम लीग ने संविधान सभा की पहली बैठक का बहिष्कार किया था । इस प्रथम बैठक मे ही डॉ॰ सच्चिदानंद सिन्हा को सर्वसम्मति से संविधान सभा का अस्थाई अध्यक्ष चुना गया । 11 दिसम्बर 1946 की बैठक मे डॉ॰ राजेन्द्र प्रसाद को सभा का स्थायी अध्यक्ष चुना गया ।
  • डॉ॰बी॰आर॰ अंबेडकर की अध्यक्षता मे संविधान सभा की प्रारूप समिति की स्थापना 29 अगस्त 1947 को की गई। अध्यक्ष सहित इसके सदस्यों की कुल संख्या सात थी। संविधान निर्माण की प्रक्रिया मे कुल 2 वर्ष 11 महीने और 18 दिन लगे ।
  • 26 नवंबर 1949 को संविधान सभा के अध्यक्ष के हस्ताक्षर के बाद इसे पारित घोसीत किया गया।
  • भारत का संविधान 26 नवम्बर 1949 को अंगीकार किया गया तथा 26 जनवरी 1950 प्रथम गणतन्त्र को पूर्ण रूप से लागू हो गया ।
  • भारतीय संविधान का जनक डॉ॰भीमराव अंबेडकर को जाना जाता है ।
  • संविधान मे 25 भाग 448 अनुच्छेद और 12 अनुसूचियाँ है ।

संविधान की उद्देशिका 


नेहरू द्वारा प्रस्तुत उद्देश्य संकल्प मे जो आदर्श प्रस्तुत किए गए उन्हे ही संविधान की अद्देशिका मे शामिल कर लिया गया । संविधान के 42वें संसोधन,  1976 द्वारा यथा संसोधित यह उद्देशिका निम्न प्रकार है -
"हम भारत के लोग, भारत को एक सम्पूर्ण प्रभुत्व सम्पन्न, समाजवादी, पंथनिरपेक्ष ,लोकतंत्रात्मक गणराज्य बनाने के लिए तथा उसके समस्त नागरिकों  को सामाजिक ,आर्थिक ओर राजनीतिक न्याय, विचार अभिव्यक्ति विश्वाश , धर्म,और  उपासना को स्वतन्त्रता प्रतिष्ठा और अवसर की समता  प्राप्त कराने के लिए तथा उन सब मे व्यक्ति की गरिमा और राष्ट्र की एकता और अखंडता  सुनिश्चित करने वाली बंधुता बढ़ाने के लिए दृढ़ संकल्प होकर अपनी इस संविधान सभा मे आज तारीख 26 नवंबर 1949 को एतदद्वारा इस संविधान को अंगीकृत,अधिनियमित और आत्मरपित करते है ।